Untold Words

Untold Words

कुछ अनकही बातें
कुछ तो कहती है ये बातें, 
कुछ क्या, बहुत कुछ कहती है ये बातें ! 
बातो के बिना कुछ अधूरा सा महसूस होता है !
क्योंकी एक दूसरे को जोड़ती है ये बातें।।

इन्ही बातों से झलकता है  प्यार ,और इन्ही बातों से होती है तकरार ।
सोचो तो इन बातों का है बहुत बड़ा सार , 
और अगर यह ना हो तो हे! संसार, बहुत कुछ बयाँ करती है अनकही बातें हर बार ।।

हमें कुछ तो कहती हैं ये बातें बार बार ,
यह बातें हमें पूरा करती हैं हर बार। 
यह बातें कुछ सपनों का घर बनाती है ,
और यही बातें प्यार को शब्दों  से बया करती है।।

कुछ खट्टी ,कुछ मीठी बातें प्यार की शुरुवात होती है,
यह कुछ मेरी बातें ,कुछ तुम्हरी बातें ,
कुछ शब्दों की बातें ,कुछ आँखों की बातें ,
कुछ मेरी बातें कुछ तुम्हरी बातें 
और कुछ कुछ अनकही बातें !!

Hemendra Singh Shekhawat
BJMC(1st Year)

LATEST from Blog
Apply for Admission
TOP