Zindagi Ke Doo Pehlu

Zindagi Ke Doo Pehlu

ये दुनिया भी बड़ी जालिम है
 ये दुनिया भी बड़ी ज़ालिम है यारो,
यहाँ संभलकर चलना दोस्तो...
यहाँ पलकों पर बिठाया जाता है नज़रों से गिराने के लिए...!!

ये दुनिया भी बड़ी ज़ालिम है यारो,
जब हम कम बोला करते थे, तो कहती थी कि तुम कुछ बोलते ही नहीं ...
और आज जब हम बोलने लगे है तो कहती है कि बड़े बदतमीज़ हो गए हो...!!

ये दुनिया भी बड़ी ज़ालिम है यारो,
यहाँ लोग छुप - छुप के बाते सुनते है...
और दोष दिवारों  को देते है...!!

ये दुनिया भी बड़ी ज़ालिम है यारो,
जो सिर जुखाकर इज्ज़त से चलता है, उसे कमज़ोर समझती है...
और जो बुरा करके भी फ़क्र से चलता है, उसे बहादुर कहती है...!!

लोग कहते है ज़िन्दगी एक सिक्के की तरह है,  हर चीज़ के दो पहलू होते है...
हमने कहाँ  ज़िन्दगी तो छोड़ो,
यहाँ तो हर इंसान के दो चहेरे होते है...!!

ये दुनिया भी बड़ी ज़ालिम है यारो,
ये दुनिया भी बड़ी ज़ालिम है यारो..!!

Palak Gupta
BJMC 1st Year

LATEST from Blog
Apply for Admission
TOP